पोस्ट विवरण
User Profile

बैंगन की फसल में ऐसे करें अर्ली ब्लाइट रोग पर नियंत्रण

सुने

बैंगन की फसल में अर्ली ब्लाइट रोग का प्रकोप अधिक होता है। यह एक फफूंद जनित रोग है। हवा के साथ यह रोग अन्य पौधों को भी प्रभावित करता है। इस रोग के कारण पौधों की निचली पत्तियां ज्यादा प्रभावित होती हैं। वातावरण में अधिक नमी होने के कारण यह रोग तेजी से फैलता है। आइए अर्ली ब्लाइट रोग के लक्षण एवं इस पर नियंत्रण के तरीकों पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करें।

अर्ली ब्लाइट रोग के लक्षण

  • रोग से प्रभावित पौधों की पत्तियों पर अनियमित आकार के धब्बे उभरने लगते हैं।

  • धब्बों का रंग गहरा भूरा होता है।

  • रोग बढ़ने के साथ धब्बों के आकार में भी वृद्धि होती है।

  • रोग बढ़ने पर पौधे सूखने लगते हैं।

  • कई बार इस रोग के कारण आर्द्रगलन रोग एवं कॉलर रॉट रोग होने की संभावना बढ़ जाती है।

अर्ली ब्लाइट रोग पर नियंत्रण के तरीके

  • इस रोग से बचने के लिए फसल चक्र अपनाएं।

  • पौधों की प्रभावित पत्तियां, शाखाएं, फूल, आदि को खेत से बाहर निकाल कर नष्ट कर दें।

  • इस रोग पर नियंत्रण के लिए प्रति लीटर पानी में 2.5 ग्राम इंडोफिल जेड 78 प्रतिशत (जिनेब 75 प्रतिशत डब्लूपी) मिला कर छिड़काव करें।

  • इसके अलावा प्रति लीटर पानी में 2.5 ग्राम Antracol (प्रोपिनेब 70 प्रतिशत डब्लूपी) मिला कर छिड़काव करने से भी इस रोग पर आसानी से नियंत्रण किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें :

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। जिससे अधिक से अधिक किसान मित्र इस जानकारी का लाभ उठाते हुए बैंगन की फसल को इस घातक रोग से बचा सकें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

Pramod

Dehaat Expert

7 लाइक्स

16 November 2021

शेयर करें
banner
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ