पोस्ट विवरण
User Profile

जानें भैंस की कुछ प्रमुख नस्लें

सुने

पिछले कुछ वर्षों में दूध की खपत बढ़ने के साथ डेयरी व्यवसाय भी तेजी से बढ़ने लगा है। ऐसे में भैंस पालन के द्वारा आप भी अच्छा मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं। भैंस पालन शुरू करने से पहले इसकी कुछ प्रमुख नस्लों की जानकारी होना आवश्यक है। भारत में भैंस की करीब 23 नस्लें हैं। आइए इस पोस्ट के मध्य से हम भैंस की कुछ प्रमुख नस्लों पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करें।

  • मुर्रा/मुर्राह : यह भारत के लगभग सभी क्षेत्रों में पाई जाती है। यह विश्व में भैंस की सबसे अच्छी दुधारू नस्ल है। इस नस्ल की भैंस गहरे काले रंग की होती हैं। इसके सींग छोटे एवं मुड़े हुए होते हैं। इस नस्ल की भैंस प्रति दिन करीब 5 से 6 किलोग्राम दूध का उत्पादन करती है।

  • जाफराबादी : यह भैंस की सबसे भारी नस्ल है। इसके सिर के आगे सफेद निशान होने के कारण इसे नव चंद्र नाम से भी जाना जाता है। यह अधिक दूध उत्पादन करने वाली नस्लों में से एक है। इस नस्ल की भैंस प्रति दिन करीब 7 से 8 किलोग्राम दूध का उत्पादन करती है। दूध में 7 से 8 प्रतिशत तक वसा की मात्रा पाई जाती है।

  • भदावरी : इस नस्ल की भैंस मध्यम आकार की होती है। इसके पैर छोटे एवं मजबूत होते हैं। इस नस्ल की व्यस्क भैंस का वजन 300 से 400 किलोग्राम तक होता है। इस नस्ल की भैंस प्रति दिन करीब 5 से 6 किलोग्राम दूध का उत्पादन करती है। इसके दूध में वसा की मात्रा अधिक होती है। भदावरी भैंस के दूध में 8 से 14 प्रतिशत तक वसा की मात्रा पाई जाती है। वसा की मात्रा अधिक होने के कारण दूध की जगह दूध से घी निकाल कर भी बेचा जा सकता है।

इन नस्लों के अलावा सुरती, मेहसाना, गोदावरी, सांभलपुरी, नागपुरी, साथकनारा, तराई, टोड़ा, आदि नस्ल की भैंसों का पालन भी प्रमुखता से किया जाता है।

यह भी पढ़ें :

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों एवं पशु पालकों के साथ साझा भी करें। जिससे अधिक से अधिक व्यक्तियों तक यह जानकारी पहुंच सके। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें। पशु पालन एवं कृषि संबंधी अन्य रोचक एवं ज्ञानवर्धक जानकारियों के लिए जुड़े रहें देहात से।

Somnath Gharami

Dehaat Expert

8 लाइक्स

3 December 2021

शेयर करें
banner
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ