पोस्ट विवरण
User Profile

कपास की फसल में गुलाबी सुंडी पर नियंत्रण के सटीक उपाय

सुने

गुलाबी इल्ली के कारण कपास की फसल को सबसे अधिक नुकसान होता है। इस कीट को गुलाबी सुंडी और पिंक बॉलवर्म के नाम से भी जाना जाता है। अगर आप भी कर रहे हैं कपास की खेती तो पौधों को इस रोग से बचाने के लिए गुलाबी इल्ली के प्रकोप का लक्षण एवं बचाब के तरीकों की जानकारी होना आवश्यक है। आइए गुलाबी इल्लियों पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करें।

गुलाबी इल्ली के प्रकोप का लक्षण

  • यह कीट फूलों को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाते हैं।

  • इस कीट का प्रकोप होने पर कलियां आपस में चिपकने लगती हैं।

  • लार्वा कलियों को खा कर फसल को क्षति पंहुचाते हैं।

  • लार्वा बड़े हो कर बीज एवं रेशों को खाते हैं। जिससे पैदावार में भारी कमी आती है।

गुलाबी इल्ली पर नियंत्रण के तरीके

  • प्रति एकड़ जमीन में 2 से 4 फेरोमन ट्रेप लगाएं।

  • कपास में जब फूल निकलने के समय 15 लीटर पानी में 15-20  मिलीलीटर डेल्टामेथरिन 2.8 ई.सी या ट्राइजोफ़ोस 40 ई.सी या कर्बरील 50 डबल्यूपी 4 ग्राम प्रति लीटर पानी में मिला कर छिड़काव करें।

  • आवश्यकता होने पर 15 दिनों के अंतराल पर 2 से 3 बार छिड़काव कर सकते हैं।

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो हमारे पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। जिससे अन्य किसान मित्र भी इस जानकारी का लाभ उठाते हुए कपास की फसल को गुलाबी इल्ली के प्रकोप से बचा सकें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें।

SomnathGharami

Dehaat Expert

14 लाइक्स

1 टिप्पणी

29 June 2021

शेयर करें
banner
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ