पोस्ट विवरण
User Profile

लाल रंग के प्याज की किस्में

सुने

प्याज की कई किस्में होती हैं। कुछ का रंग लाल होता है। कुछ प्याज पीले राग के वहीं कुछ सफ़ेद रंग के भी होते हैं। इस पोस्ट के माध्यम से हम लाल रंग वाली प्याज की किस्मों की जानकारी ले कर आए हैं।

लाल रंग वाली कुछ प्रमुख किस्में

  • भीमा गहरा लाल : गहरे लाल रंग वाले चपटे और गोलाकार इस प्याज की खेती मुख्यतः छत्तीसगढ़, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान , गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, ओडिशा और तमिलनाडु में की जाती है। फसल 95 से 100 दिन में तैयार हो जाती है। प्रति हेक्टेयर औसतन 200 से 220 क्विंटल प्याज की पैदावार होती है।

  • भीमा लाल : इस किस्म के प्याज की फसल को खरीफ में पकने में 105 से 110 दिन लगते हैं। वहीं रबी मौसम में 110 से 120 दिन में यह पक कर तैयार हो जाती है। आमतौर पर खरीफ में प्रति हेक्टेयर 190 से 210 क्विंटल और पछेती खरीफ में प्रति हेक्टेयर 480 से 520 क्विंटल फसल की पैदावार होती है। बात करें रबी मौसम की तो प्रति हेक्टेयर लगभग 300 से 320 क्विंटल प्याज की उपज होती है।

  • भीमा सुपर : इस किस्म की खेती पछेती फसल के रूप में भी की जा सकती है। खरीफ में खेती करने पर फसलें 100 से 105 दिनों में तैयार हो जाती हैं। पछेती खरीफ में फसल को तैयार होने में लगभग 110 से 120 दिन समय लगता है। खरीफ में प्रति हेक्टेयर जमीन से 220 से 250 क्विंटल प्याज प्राप्त कर सकते हैं। पछेती खरीफ में प्रति हेक्टेयर 400 से 450 क्विंटल प्याज की पैदावार होती है।

  • अर्का निकेतन : इसकी खेती खरीफ और रबी दोनों मौसम में की जाती है। फसल को तैयार होने में 145 दिन का समय लगता है। मुख्य रूप से इसकी खेती मध्य प्रदेश , महाराष्ट्र, कर्नाटक और तमिलनाडु में की जाती है। प्रति हेक्टेयर भूमि से 325 से 350 क्विंटल उपज होती है। इसके एक कंद का वजन 100 से 180 ग्राम तक होता है।

  • पूसा रतनार : इसके कंद गहरे लाल थोड़े चपटे और गोल होते हैं। रोपाई के 125 दिनों बाद इसकी खुदाई की जा सकती है। प्रति हेक्टेयर 400 से 500 क्विंटल तक पैदावार होती है।

  • हिसार- 2 : इस किस्म की रोपाई के लगभग 175 दिनों बाद खुदाई की जा सकती है। प्रति हेक्टेयर जमीन से लगभग 300 क्विंटल उपज होती है। अच्छी भंडारण क्षमता वाले इस किस्म के प्याज गोल , भूरे रंग के और कम तीखे होते हैं।

इसके अलावा पटना लाल, पंजाब लाल गोल, पंजाब चयन, पूसा लाल, अर्का प्रगति, अर्का लाइम, नासिक लाल, लाल ग्लोब , कल्याणपुर लाल, बेलारी लाल, पूना लाल, एल- 2-4-1 आदि भी लाल रंग की प्याज वाली किस्मों में शामिल हैं।

Soumya Priyam

Dehaat Expert

35 लाइक्स

15 टिप्पणियाँ

2 September 2020

शेयर करें
banner
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ