पोस्ट विवरण
User Profile

सितंबर महीने में किए जाने वाले कुछ प्रमुख कृषि कार्य

सुने

सितंबर महीने में कई कृषि कार्यों को करने की आवश्यकता होती है। यह समय कई फसलों की बुवाई / रोपाई के लिए उपयुक्त है। इसके साथ ही इस समय कुछ फसलों में खाद एवं उर्वरकों की भी पूर्ति की जाती है। वातावरण में अधिक नमी होने के कारण सितंबर महीने में फसलों में विभिन्न कीटों का भी प्रकोप होता है। बेहतर फसल प्राप्त करने के लिए इस समय फसलों में किए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण कार्यों की जानकारी होना आवश्यक है। आइए सितंबर महीने में किए जाने वाले कुछ प्रमुख कृषि कार्यों पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करें।

सितंबर महीने में किए जाने वाले कुछ प्रमुख कृषि कार्य

  • सोयाबीन : इस समय पौधों में दानें बनने लगते हैं। दानें बनने के समय खेत में नमी की मात्रा को बनाए रखने के लिए हल्की सिंचाई करें। खेत में नियमित निरीक्षण भी करें। जिससे कीटों का प्रकोप होने पर समय रहते नियंत्रण किया जा सके।

  • सरसों : यह समय सरसों की अगेती किस्मों की बुवाई के लिए उपयुक्त है। प्रति एकड़ जमीन में खेती के लिए 2 से 2.5 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है। बुवाई से पहले प्रति किलोग्राम बीज को 2.5 ग्राम थीरम से उपचरित करें।

  • मक्का : मई-जून महीने में लगाए गए पौधों में भुट्टे पकने लगते हैं। भुट्टों के पकने पर उन्हें तोड़ कर धूप में अच्छी तरह सूखा लें। देर से बुवाई की गई फसल में इस समय तना छेदक कीट का प्रकोप होने का खतरा अधिक होता है। इस कीट पर नियंत्रण के लिए प्रति एकड़ फसल मे 150 लीटर पानी में 50 मिलीलीटर देहात कटर 15 दिन के अंतराल पर दो बार छिड़काव करें।

  • टमाटर : टमाटर की खेती के लिए यह समय उपयुक्त है। यदि अगस्त महीने में टमाटर की रोपाई की गई है तो रोपाई के 25 से 30 दिनों बाद यूरिया का छिड़काव करें। पौधों में आवश्यकता के अनुसार सिंचाई करें।

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य किसानों के साथ साझा भी करें। जिससे अन्य किसान मित्र भी इस जानकारी का लाभ उठा सकें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें। कृषि संबंधी अन्य रोचक एवं ज्ञानवर्धक जानकारियों के लिए जुड़े रहें देहात से।

Somnath Gharami

Dehaat Expert

5 लाइक्स

3 September 2021

शेयर करें
banner
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ