पोस्ट विवरण
User Profile

ताउते चक्रवाती तूफान से मौसम में भारी परिवर्तन, जानें ताजा खबर

सुने

अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान ताउते के कारण देश के कई राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है। इस तूफान ने केरल, कर्नाटक एवं गोवा के तटीय क्षेत्रों में भारी क्षति पहुंचाई है। इसके साथ ही महाराष्ट्र के विभिन्न क्षेत्रों में तेज हवाओं के साथ वर्षा हुई एवं समुद्र में ऊंची लहरें भी उठीं। एहतियात के तौर पर मछुआरों को तटीय क्षेत्रों से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

बात करें ताउते तूफान से होने वाले नुकसान की तो खबरों के अनुसार सोमवार को इस तूफान के कारण 12 व्यक्तियों की मौत हुई वहीं करीब 17 व्यक्ति जख्मी हुए। इसके साथ ही सैकड़ों पेड़ एवं बिजली के खम्बे गिर चुके हैं और कई घरों को नुकसान हुआ है। चक्रवाती तूफान से बचने के लिए पश्चिमी तट के निचले क्षेत्रों को खाली करने के लिए भारी संख्या में लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। मुंबई (महाराष्ट्र) में मूसलाधार वर्षा एवं भारी तबाही मचाने के बाद यह तूफान सौराष्ट्र तट से टकराया। इस दौरान हवा की गति 185 किलोमीटर प्रति घंटा थी। गुजरात में 2,00,000 से अधिक व्यक्तियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।

मौसम विभाग के अनुसार ताउते चक्रवाती तूफान के साथ पश्चिमी विभोक्ष का भी असर होगा, इसलिए 20 मई 2021 तक वर्षा जारी रहेगी।

18 मई 2021 : उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली एवं पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में बिजली की गड़गड़ाहट के साथ तेज हवाएं एवं ओले पड़ने की भी संभावना है। हवा की गति 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हो सकती है। पश्चिम मध्य प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा के साथ बिजली की गड़गड़ाहट सुनाई दे सकती है। पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, झारखंड, असम, मेघालय, केरल, माहे, लक्षद्वीप, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गंगा के तटवर्ती पश्चिम बंगाल, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, अरुणाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश का तटवर्ती क्षेत्र, यानम, तेलंगाना, रायलसीमा, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी एवं कराईकल के कुछ क्षेत्रों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं एवं बिजली की संभावना है। राजस्थान के कुछ क्षेत्रों में बिजली के साथ गरज एवं 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं एवं धूल का चक्रवात उठने की संभावना जताई गई है। गुजरात, दक्षिण राजस्थान एवं कोणार्क के कुछ क्षेत्रों में भारी से मूसलाधार वर्षा होने की संभावना है। उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, तटवर्ती एवं दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, केरल, माहे एवं लक्षद्वीप के विभिन्न क्षेत्रों में भारी वर्षा हो सकती है। गुजरात के तटवर्ती क्षेत्रों में 155-165 किलोमीटर प्रति घंटा से 185 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं। ताउते चक्रवाती तूफान को ध्यान में रखते हुए मछुआरों को इन क्षेत्रों से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

19 मई 2021 : जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, पश्चिम उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के कुछ क्षेत्रों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं, बिजली एवं ओले पड़ने की संभावना है। हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली एवं पश्चिम मध्य प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं एवं बिजली की संभावना जताई गई है। हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पूर्वी राजस्थान, झारखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, असम, मेघालय, केरल, माहे एवं लक्षद्वीप के कुछ क्षेत्रों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चलेंगी, साथ ही बिजली की गड़गड़ाहट भी सुनाई दे सकती है। पूर्वी उत्तर प्रदेश, पश्चिम राजस्थान, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मिजोरम, मणिपुर, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश का तटवर्ती क्षेत्र, यानम, तेलंगाना, रायलसीमा, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी एवं कराईकल के कुछ क्षेत्रों में बिजली की संभावना जताई गई है। राजस्थान, असम, मेघालय, सौराष्ट्र, कच्छ के विभिन्न क्षेत्रों में भारी से मूसलाधार वर्षा हो सकती है। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम राजस्थान, पश्चिम उत्तर प्रदेश, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मिजोरम, मणिपुर, त्रिपुरा, गुजरात, तटवर्ती एवं दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, केरल एवं माहे के विभिन्न क्षेत्रों में भारी वर्षा होने का अनुमान लगाया गया है।

20 मई 2021 : जम्मू-कश्मीर, लद्दाख एवं हिमाचल प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में बिजली की गड़गड़ाहट के साथ 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा एवं ओले पड़ने के अनुमान लगाए गए हैं। उत्तराखंड, झारखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, असम, मेघालय, केरल, माहे एवं लक्षद्वीप के विभिन्न क्षेत्रों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ बिजली गरज भी सुनाई दे सकती है। अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश का तटवर्ती क्षेत्र। यानम, तेलंगाना, रायलसीमा, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी एवं कराईकल के कुछ क्षेत्रों में बिजली की गरज सुनाई दे सकती है। उत्तराखंड के विभिन्न क्षेत्रों में भारी से अत्यधिक वर्षा हो सकती है। हिमाचल प्रदेश, उप हिमालय, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, तटवर्ती एवं दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, केरल एवं माहे के विभिन्न क्षेत्रों में भारी वर्षा हो सकती है।

21 मई 2021 : जम्मू-कश्मीर, लद्दाख एवं हिमाचल प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में बिजली की गड़गड़ाहट के साथ 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा एवं ओले पड़ने के अनुमान लगाए गए हैं। उत्तराखंड, झारखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, असम, मेघालय, केरल, माहे एवं लक्षद्वीप के विभिन्न क्षेत्रों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ बिजली गरज भी सुनाई दे सकती है। अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश का तटवर्ती क्षेत्र। यानम, तेलंगाना, रायलसीमा, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी एवं कराईकल के कुछ क्षेत्रों में बिजली की गरज सुनाई दे सकती है। उत्तराखंड के विभिन्न क्षेत्रों में भारी से अत्यधिक वर्षा हो सकती है। हिमाचल प्रदेश, उप हिमालय, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, तटवर्ती एवं दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, केरल एवं माहे के विभिन्न क्षेत्रों में भारी वर्षा हो सकती है। मछुआरों को इन क्षेत्रों से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो हमारे पोस्ट को लाइक करें एवं इसे अन्य व्यक्तियों के साथ साझा भी करें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के माध्यम से पूछें। मौसम की जानकारी के साथ पशुपालन एवं कृषि संबंधी जानकारियों के लिए जुड़े रहें देहात से।

Somnath Gharami

Dehaat Expert

10 लाइक्स

18 May 2021

शेयर करें
banner
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ