Post Details
User Profile

बोरोन के प्रयोग से बैंगन और टमाटर के फलों को बनाएं स्वस्थ एवं चमकदार

Listen

टमाटर और बैंगन कुछ प्रमुख सब्जियों में शामिल हैं। इन दोनों फसलों के लिए 18 डिग्री से 21 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान उचित रहता है। 10 डिग्री सेंटीग्रेड से कम तापमान और 35 डिग्री सेंटीग्रेड से अधिक तापमान दोनों ही फसल के लिए हानिकारक होता है। इससे फसल के फूल और फल गिरने लगते हैं, साथ ही फलों का रंग भी बदलने लगता है। किसान इसको लेकर काफी परेशान रहते हैं। इस समस्या से निजात पाना बहुत कठिन होता है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बैंगन और टमाटर के फलों को स्वस्थ और चमकदार बनाने का उपाय बताएंगे। जिसे अपनाकर आप टमाटर और बैंगन की खेती से अधिक मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं। जानने के लिए पढ़िए यह आर्टिकल।

बोरोन की कमी के कारण फसल में दिखाई देने वाले लक्षण

  • बोरोन पोषक तत्त्व की कमी से फल और फूल गिरने लगते हैं।

  • फसल का विकास बहुत धीमी गति से होता है।

  • फसल की नई पत्तियों में पीलापन पड़ने लगता है।

  • बोरोन की कमी से फल फटने लगते हैं।

  • इसकी कमी से फलों का आकार बहुत छोटा रह जाता है।

  • फल सड़ने लगते हैं।

  • फलों का रंग बदलने लगता है एवं चमक फीकी पड़ने लगती है।

बोरोन के फायदे

  • बोरोन के इस्तेमाल से फल और फूलों का विकास अच्छे से होता है।

  • इसके इस्तेमाल से फलों का रंग बेहतर होता है और फल अधिक चमकीले बनते हैं।

  • यह फल और फूलों को गिरने से रोकता है।

  • फलों को फटने से रोकता है।

  • फसल का विकास अच्छे से होता है।

  • बोरोन के प्रयोग से परागण की क्रिया आसानी से होती है।

  • इसके इस्तेमाल से फसल का उत्पादन बढ़ता है।

बोरोन को इस्तेमाल करने का तरीका

  • पौधों की रोपाई के समय प्रति एकड़ खेत में 1 किलोग्राम बोरोन को मिट्टी में डालें।

  • बेहतर परिणाम के लिए मिट्टी की जांच के अनुसार ही बोरोन का प्रयोग करें।

  • फसल की रोपाई के 4 सप्ताह बाद 0.3 से 0.4 प्रतिशत बोरोन घोल का छिड़काव करें।

  • बोरोन पोषक तत्त्व की पूर्ति के लिए प्रति एकड़ खेत में 3 से 4 किलोग्राम देहात नियोबोर का प्रयोग करें।

  • खड़ी फसल में सिंचाई के साथ भी बोरोन का प्रयोग कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :

आशा है कि यह जानकारी आपके लिए लाभकारी साबित होगी। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ जानकारी साझा करें। जिससे अधिक से अधिक लोग इस जानकारी का लाभ उठा सकें और बैंगन और टमाटर के फल में बोरोन का प्रयोग कर फसल से अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकें। इससे संबंधित यदि आपके कोई सवाल हैं तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। कृषि संबंधी अन्य रोचक एवं महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए जुड़े रहें देहात से।


Somnath Gharami

Dehaat Expert

6 Likes

10 May 2022

share
banner
Get free advice from a crop doctor

Get free advice from a crop doctor