पोस्ट विवरण
सुने
योजनाएं
किसान योजना
1 June
Follow

अरोमा मिशन योजना (Aroma Mission Scheme)


अरोमा मिशन भारत सरकार द्वारा वर्ष 2001 में शुरू किया गया था। मिशन को सुगंधित फसलों की खेती को बढ़ावा देने और किसानों की आय बढ़ाने के लिए उनके मूल्य संवर्धन की सुविधा के उद्देश्य से शुरू किया गया था। अरोमा मिशन शुरू में उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और पंजाब राज्यों में शुरू किया गया था। हालांकि, पिछले कुछ वर्षों में, मिशन को अन्य राज्यों में भी विस्तारित किया गया है। अरोमा मिशन सुगंधित फसलों की खेती को बढ़ावा देने में सफल रहा है और इससे किसानों को नए बाजारों में टैप करके और उनकी उपज में मूल्य जोड़कर अपनी आय बढ़ाने में मदद की है।

अरोमा मिशन के फायदे क्या हैं (What are the benefits of Aroma Mission)

अरोमा मिशन, जिसे "लैवेंडर या बैंगनी क्रांति" (Lavender or Purple Revolution) के रूप में भी जाना जाता है, जम्मू-कश्मीर से शुरू होकर उस उत्तरी राज्य में उगाई जाने वाली फसलों को बढ़ावा देने का उद्देश्य रखता है। इस मिशन के अंतर्गत, किसानों को लैवेंडर उगाने और उससे आकर्षक लाभ कमाने में मदद मिलेगी, जिससे उनका जीवन स्तर सुधारेगा और उन्हें अपने जीवन को बेहतर बनाने की साधना करने में सहायता मिलेगी। इससे पहले, भारत में 21 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में फ्लोरीकल्चर मिशन (Floriculture Mission) की शुरुआत की गई थी, जो उगाई जाने वाली फसलों के उत्पादन और उनके निर्यात को बढ़ावा देने का लक्ष्य रखता था।

  • आर्थिक लाभ (Economic Benefits) : अरोमा पौधों की खेती पारंपरिक फसलों के मुकाबले अधिक लाभदायक है। अरोमा उत्पादों की उच्च मांग और बेहतर मूल्य मिलता है, जिससे किसानों की आय में वृद्धि होती है।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार (Employment in rural areas) : अरोमा पौधों की खेती, प्रसंस्करण और विपणन से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के नए अवसर उत्पन्न होते हैं। अरोमा उद्योग में महिलाओं की भागीदारी बढ़ती है, जिससे उनके लिए रोजगार के अवसर बढ़ते हैं।
  • पर्यावरणीय लाभ (environmental benefits) : जैविक पद्धतियों का उपयोग अरोमा पौधों की खेती में जैविक तरीकों को प्राथमिकता दी जाती है, जो पर्यावरण के लिए लाभकारी है। अरोमा पौधों की जड़ें मृदा को स्थिरता प्रदान करती हैं और मृदा अपरदन को रोकने में मदद करती हैं।
  • स्वास्थ्य लाभ (health benefit) : अरोमा पौधों से निकाले गए तेल और उत्पाद प्राकृतिक होते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं। कई अरोमा पौधों में औषधीय गुण होते हैं, जो विभिन्न बीमारियों के उपचार में उपयोगी होते हैं।
  • औद्योगिक विकास (industrial development) : अरोमा पौधों से जुड़े लघु और मध्यम उद्योगों को बढ़ावा मिलता है, जिससे ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में आर्थिक विकास होता है। उच्च गुणवत्ता वाले अरोमा उत्पादों का निर्यात बढ़ता है, जिससे विदेशी मुद्रा की प्राप्ति होती है।
  • नई किस्मों का विकास (Development of new varieties) : वैज्ञानिक अनुसंधान के माध्यम से अरोमा पौधों की नई और उन्नत किस्में विकसित की जाती हैं। आधुनिक तकनीकों का उपयोग कर अरोमा उत्पादों की गुणवत्ता और उत्पादन क्षमता में सुधार किया जाता है।
  • सरकारी सहयोग और नीतियां (Government Support and Policies) : सरकार द्वारा किसानों और उद्यमियों को वित्तीय सहायता और सब्सिडी प्रदान की जाती है। किसानों और उद्योग से जुड़े लोगों को प्रशिक्षण और शिक्षा प्रदान की जाती है, जिससे वे नवीनतम तकनीकों और तरीकों को अपनाने में सक्षम होते हैं।
  • सामाजिक और सामुदायिक लाभ (Social and community benefits) : अरोमा मिशन ग्रामीण समुदायों को सशक्त बनाता है, जिससे उनका सामाजिक और आर्थिक विकास होता है। यह मिशन समाज के सभी वर्गों को लाभान्वित करता है, विशेषकर छोटे और सीमांत किसानों को।

क्या आप अरोमा मिशन योजना का लाभ उठाना चाहते हैं? अगर आप खेती से संबंधित अन्य कोई जानकारी चाहते हैं तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं। और अगर आपको यह जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें और अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें। किसानों के लिए चल रही सरकारी योजनाओं की जानकारी के लिए 'किसान योजना' चैनल को फॉलो करें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently Asked Questions (FAQs)

Q: अरोमा मिशन क्या है?

A: अरोमा मिशन भारत में सुगंधित फसलों की खेती को बढ़ावा देने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) द्वारा शुरू की गई एक परियोजना है। मिशन का उद्देश्य पुदीना, लेमनग्रास, पामारोजा और सिट्रोनेला जैसी सुगंधित फसलों के उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि करना और इन फसलों के लिए एक स्थायी मूल्य श्रृंखला स्थापित करना है। मिशन का उद्देश्य किसानों को आधुनिक खेती पद्धतियों को अपनाने और सुगंधित फसलों की नई किस्मों को विकसित करने के लिए प्रशिक्षण और सहायता प्रदान करना है जो भारतीय जलवायु परिस्थितियों के लिए बेहतर अनुकूल हैं। अरोमा मिशन से किसानों को उनकी आय बढ़ाने और उनकी आजीविका में सुधार करने के साथ-साथ भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में भी योगदान देने की उम्मीद है।

Q: सुगंधित फसल कौन सी है?

A: कई सुगंधित फसलें हैं जो भारत में उगाई जाती हैं। आमतौर पर उगाई जाने वाली कुछ सुगंधित फसलों में पुदीना, लेमनग्रास, पामारोजा, सिट्रोनेला, तुलसी, मेंहदी, अजवायन के फूल और लैवेंडर शामिल हैं। इन फसलों को उनके आवश्यक तेलों के लिए लगाया जाता है, जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के उद्योगों जैसे इत्र, सौंदर्य प्रसाधन, फार्मास्यूटिकल्स और खाद्य प्रसंस्करण में किया जाता है। सुगंधित फसलों की खेती भारत में कई किसानों के लिए आय का एक महत्वपूर्ण स्रोत है, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में।

Q: भारत में सुगंध मिशन क्या है?

A: खुशबू मिशन भारत में एक सरकारी पहल है जो किसानों की आय बढ़ाने और सुगंधित फसलों की खेती को बढ़ावा देती है।

Q: एरोमा मिशन के जरिए किसानों की आमदनी कैसे बढ़ाई जाती है

A: एरोमा मिशन के द्वारा किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए उन्हें सुगंधित फसलों की खेती के लिए उचित संसाधन प्रदान किए जाते हैं, जैसे: बीज और पौधे, खेती के लिए प्रशिक्षण, पौधे तैयार होने के बाद प्रसंस्करण और सही मार्केटिंग तकनीक, नर्सरी उगाने के लिए उचित स्थान, उच्च लाभ, बंजर भूमि के उपयोग, जंगली एवं पालतू जानवरों से फसलों की सुरक्षा।

Q: अरोमा मिशन के तहत किसानों को कौन से पौधे उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जाता हैं?

A: सीएसआईआर संस्थान के तहत किसानों को कई सुगन्धित फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहित किया गया है जिनमें मुख्य हैं: मेंथा, लेमनग्रास, अश्वगंधा, आर्टीमीशिया, मैरीगोल्ड, डैमस्क गुलाब, लैवेंडर, मेंहदी, मशकबाला और जंगली गेंदा इन फसलों की खेती से किसानों की आमदनी में वृद्धि होती है और उन्हें बेहतर लाभ प्राप्त होता है।

32 Likes
1 Comment
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ