पोस्ट विवरण
सुने
उर्वरक
कृषि
देसी जुगाड़
29 May
Follow

नारियल के छिलके से बनाएं जैविक खाद | Preparing Organic Fertilizer from Coconut Peel

जैविक खाद आपकी खेत की मिट्टी को समृद्ध करने और पौधों को स्वस्थ बनाने रखने का एक शानदार तरीका है। यह एक प्राकृतिक उर्वरक है जो विघटित कार्बनिक पदार्थों जैसे रसोई के कचरे, यार्ड कचरे और अन्य कार्बनिक पदार्थों से बनाया जाता है। आपको शायद यह जान कर हैरानी होगी कि जिस नारियल के छिलकों को हम कचरा समझ कर फेंक देते हैं, उससे हम एक बेहतरीन जैविक खाद तैयार कर सकते हैं। नारियल के छिलकों से तैयार किए गए खाद मिट्टी एवं पौधों के लिए बहुत लाभदायक है। इसके साथ ही पर्यावरण पर भी इसका किसी तरह का बुरा प्रभाव नहीं होता है। नारियल के छिलकों से जैविक खाद बनाने की विधि एवं इसके लाभ की विस्तृत जानकारी के लिए इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।

फसलों में नारियल के छिलके से बनाए गए जैविक खाद इस्तेमाल करने के फायदे | Benefits Of Using Organic Fertilizer Made From Coconut Peel

  • पोषक तत्वों की पूर्ति: इस खाद के इस्तेमाल से फसलों में कई पोषक तत्वों की कमी दूर होती है। जिससे पौधे स्वस्थ बने रहते हैं और उनमें कीट एवं रोगों के होने की संभावना कम हो जाती है।
  • मिट्टी की उर्वरता में सुधार: नारियल के छिलके से बनी जैविक खाद नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होती है, जो पौधों की वृद्धि के लिए आवश्यक है। इसके इस्तेमाल से मिट्टी की उर्वरता बेहतर होती है।
  • मिट्टी की संरचना: इसके इस्तेमाल से मिट्टी में कार्बनिक पदार्थों की मात्रा बढ़ती है। इसके साथ ही मिट्टी की जल-धारण क्षमता बढ़ती है। इस तरह यह खाद मिट्टी की संरचना में सुधार होता है।
  • मिट्टी के कटाव को कम करता है: नारियल के छिलके की खाद मिट्टी के कणों को एक साथ बांधकर मिट्टी के कटाव को कम करने में मदद करता है और उन्हें बारिश के पानी में बहने से रोकता है।
  • फसल की पैदावार में वृद्धि: नारियल के छिलके की खाद में मौजूद पोषक तत्व पौधों को वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करके फसल की उपज बढ़ाने में मदद करता है।
  • पर्यावरण के लिए सुरक्षित: नारियल के छिलके से तैयार किया गया खाद पूरी तरह से जैविक है और इसके इस्तेमाल से पर्यावरण पर किसी तरह का हानिकारक प्रभाव नहीं होता है।
  • लागत प्रभावी: नारियल के छिलके की खाद को बनाने की लागत बहुत कम होती है। इसे घर में आसानी से तैयार किया जा सकता है।

नारियल के छिलके से जैविक खाद बनाने के लिए आवश्यक सामग्री | Ingredients Required For Making Organic Fertilizer From Coconut Peel

  • नारियल के छिलके: 2-3 किलोग्राम
  • गाय का गोबर: 1 किलोग्राम
  • मिट्टी: 1 किलोग्राम
  • पानी: आवश्यकतानुसार
  • बड़ा कंटेनर: 1
  • चाकू (नारियल के छिलकों को काटने के लिए)
  • कपड़ा (छानने के लिए)

नारियल के छिलके से जैविक खाद बनाने की विधि | Process To Prepare Organic Fertilizer From Coconut Peel

  • 2-3 किलोग्राम नारियल के छिलके इकट्ठा करें और चाकू से उन्हें छोटे टुकड़ों में काट लें। नारियल के छिलकों के टुकड़े जितने छोटे होंगे, वे उतनी ही तेजी से विघटित होंगे।
  • कटे हुए नारियल के छिलकों में 1 किलोग्राम गाय का गोबर मिलाएं। गाय का गोबर नाइट्रोजन में समृद्ध है और अपघटन प्रक्रिया को तेज करने में मदद करेगा।
  • नारियल के छिलके और गोबर के मिश्रण में 1 किलोग्राम मिट्टी मिलाएं। मिट्टी में सूक्ष्मजीव होते हैं जो कार्बनिक पदार्थों को तोड़ने और पोषक तत्वों से भरपूर खाद में बदलने में मदद करेंगे।
  • मिश्रण में पानी डालें और नम होने तक अच्छी तरह मिलाएं। मिश्रण नम होना चाहिए लेकिन बहुत गीला नहीं होना चाहिए। यदि यह बहुत सूखा है, तो अपघटन प्रक्रिया धीमी हो जाएगी और यदि यह बहुत गीला है, तो यह खराब गंध आने लगेंगी।
  • इस मिश्रण को एक बड़े कंटेनर या गड्ढे में भरें। यदि आप एक गड्ढे का उपयोग कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि कीटों को अंदर जाने से रोकने के लिए यह कम से कम 1 मीटर गहरा होना चाहिए।
  • कीटों को दूर रखने के लिए मिश्रण को कपड़े से ढक दें। हवा के आवागनम के लिए कपड़ा बहुत मोटा नहीं होना चाहिए।
  • कंटेनर या गड्ढे को 2-3 सप्ताह के लिए ठंडी और सूखी जगह पर रखें।
  • उचित अपघटन सुनिश्चित करने के लिए हर 2-3 दिनों में मिश्रण को हिलाएं। यह पूरे मिश्रण में सूक्ष्मजीवों और ऑक्सीजन को वितरित करने में मदद करेगा, जिससे खाद बनाने की प्रक्रिया में तेजी आएगी।
  • 2 से 3 सप्ताह के बाद, जैविक खाद उपयोग के लिए तैयार हो जाएगी। खाद गहरे भूरे और भुरभुरे रंग का होना चाहिए। इस मिश्रण से मिट्टी की हल्की सुगंध आती है।
  • नारियल के छिलके से तैयार किए गए खाद का इस्तेमाल अपने पौधों, सब्जियों और फसलों को निषेचित करने के लिए कर सकते हैं।

नारियल के छिलके से बनाए गए जैविक खाद का इस्तेमाल किन फसलों में किया जा सकता है? In Which Crops Can Organic Fertilizer Made from Coconut Peel Be Used?

  • सब्जियां: इस खाद का इस्तेमाल टमाटर, खीरा, बीन्स, मटर और पत्तेदार साग-सब्जियों वाली फसलों में किया जा सकता है।
  • फल: इस खाद का प्रयोग आम, केला, पपीता के साथ नींबू वर्गीय फसलों में कर सकते हैं।
  • अनाज: नारियल के छिलकों से तैयार किए गए खाद को धान, गेहूं और मक्का जैसी अनाज वाली फसलों में डाल सकते हैं। इसके साथ ही इसे मूंगफली, तिल और सरसों जैसी फसलों में भी डाल सकते हैं।
  • फूल: इसका इस्तेमाल गुलाब, गेंदा, चमेली, आदि फूलों वाले पौधों में किया जा सकता है।
  • मसाले: यदि आप काली मिर्च, इलायची और हल्दी जैसी मसाले वाली फसलों की खेती कर रहे हैं, तब भी आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्या आपने कभी फसलों में नारियल के छिलकों से तैयार किए गए खाद का इस्तेमाल किया है? अपने जवाब एवं अनुभव हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। इस तरह की अधिक जानकारियों के लिए 'देसी जुगाड़' चैनल को तुरंत फॉलो करें। इसके साथ ही इस पोस्ट को लाइक और अधिक से अधिक किसानों के साथ शेयर भी करें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently Asked Questions (FAQs)

Q: नारियल छिलके से खाद कैसे तैयार किया जाता है?

A: नारियल के छिलके से छिलके को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर, उसे गोबर मिट्टी एवं पानी के साथ मिला कर विघटित होने के लिए 2 से 3 सप्ताह तक रखा जाता है। इसके बाद इसका इस्तेमाल सभी प्रकार की फसलों में किया जा सकता है। आप चाहें तो नारियल के छिलकों के साथ अन्य फल एवं सब्जियों के छिलके, सूखी घास, आदि भी मिला सकते हैं।

Q: पौधों के लिए नारियल की भूसी का उपयोग कैसे करें?

A: नारियल की भूसी का उपयोग पौधों के लिए कई तरीकों से किया जा सकता है। जल निकासी और वातन में सुधार के लिए इसे मिट्टी के साथ काटा और मिलाया जा सकता है, नमी बनाए रखने और खरपतवारों को दबाने के लिए गीली घास के रूप में उपयोग किया जाता है।

Q: क्या नारियल की भूसी एक अच्छी खाद है?

A: हां, नारियल की भूसी (चूरा) एक अच्छी खाद सामग्री है। यह नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम में समृद्ध है, जो पौधे के विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व हैं। फसलों में इसके इस्तेमाल से मिट्टी की संरचना में सुधार, जल प्रतिधारण बढ़ाने और स्वस्थ माइक्रोबियल गतिविधि को बढ़ावा देने में मदद मिलती है।

56 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ