पोस्ट विवरण
सुने
उर्वरक
अरहर
कृषि ज्ञान
10 June
Follow

अरहर की फसल में उर्वरक प्रबंधन | Manure Management in Pigeon Pea (Arhar)

अरहर एक प्रमुख दलहन फसल है। विश्व का 85% अरहर का उत्पादन भारत में किया जाता है। इसकी बेहतर उपज प्राप्त करने के लिए उचित मात्रा में उर्वरकों का प्रयोग करना बहुत जरूरी है। अरहर की फसल में नाइट्रोजन की आवश्यकता अन्य फसलों की तुलना में कम होती है। अरहर की बुवाई से पहले खेतों में गोबर की कंपोस्ट खाद का प्रयोग करके हम उच्च गुणवत्ता की फसल प्राप्त कर सकते हैं। अरहर की फसल में उर्वरक प्रबंधन की अधिक जानकारी के लिए इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।

अरहर की फसल में उर्वरकों के प्रयोग से होने वाले लाभ | Benefits of Using Fertilizers in Pigeon Pea (Arhar) Crop

  • पैदावार में वृद्धि: उर्वरकों के उचित उपयोग से अरहर की फसल की उपज में काफी वृद्धि हो सकती है।
  • बेहतर गुणवत्ता: उर्वरक प्रोटीन सामग्री को बढ़ा कर अरहर की फसल की गुणवत्ता को बेहतर बनाने में सहायक है।
  • संतुलित पोषण: उर्वरकों के प्रयोग से फसलों को सभी आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। इस तरह उर्वरक फसल को संतुलित पोषण प्रदान करते हुए पौधों के विकास में मददगार साबित होते हैं।
  • जड़ों का बेहतर विकास: उर्वरक जड़ों के विकास में सुधार कर सकते हैं, जो फसल को पानी और पोषक तत्वों को अधिक कुशलता से अवशोषित करने में मदद करता है।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि: पोषक तत्वों की कमी दूर होने से पौधे स्वस्थ होते हैं और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। जिससे फसल में रोगों और कीटों के प्रकोप की संभावना कम हो जाती है।
  • तनाव का प्रतिरोध: उर्वरक अरहर की फसल को सूखे या वर्षा के कारण होने वाले तनाव से बचाने में मदद कर सकते हैं।
  • लागत प्रभावी: उर्वरकों का उचित उपयोग लंबे समय में लागत प्रभावी हो सकता है, क्योंकि इससे फसल की उपज और गुणवत्ता बढ़ सकती है, जिससे किसानों को अधिक लाभ प्राप्त होता है।
  • सतत कृषि: उर्वरकों का उपयोग स्थायी कृषि प्रथाओं के एक भाग के रूप में किया जा सकता है, क्योंकि वे मिट्टी की उर्वरता को बनाए रखने और रासायनिक कीटनाशकों की आवश्यकता को कम करने में मदद कर सकते हैं।

खेत तैयार करने समय उर्वरक प्रबंधन | Fertilizer Management While Preparing the Field

  • बेहतर उपज प्राप्त करने के लिए प्रति एकड़ खेत में अच्छी तरह सड़ी हुई गोबर की खाद और 5 से 6 टन हरी खाद मिलाएं।
  • प्रति एकड़ खेत में 8 से 10 किलोग्राम यूरिया, 24 से 25 किलोग्राम सिंगल सुपर फॉस्फेट और 16 से 18 किलोग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश का प्रयोग करें।
  • खेत तैयार करने समय प्रति एकड़ खेत में 4 किलोग्राम 'देहात स्टार्टर' का प्रयोग करें।
  • यदि खेत की मिट्टी में ज़िंक और सल्फर की कमी है तो प्रति एकड़ खेत में 5 किलोग्राम ज़िंक सलफेट (देहात न्यूट्रीवन ज़िंक सलफेट मोनोहाइड्रेट) का प्रयोग करें।

फसलों में उर्वरकों के प्रयोग के समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? | Things to Keep in Mind While Using Fertilizers for Crops

  • मृदा परीक्षण: उर्वरकों का प्रयोग करने से पहले इसमें मौजूद पोषक तत्वों एवं पी.एच स्तर की जानकारी के लिए मिट्टी का परीक्षण करना महत्वपूर्ण है। इससे किसानों को उर्वरक का उचित प्रकार और मात्रा को निर्धारित करने में मदद मिल सकती है।
  • आवेदन का समय: फसल और विकास के चरण के आधार पर उर्वरकों का प्रयोग सही समय पर किया जाना चाहिए। उर्वरकों को बहुत जल्दी या बहुत देर से इस्तेमाल करने से उनकी प्रभावशीलता कम हो सकती है।
  • प्रयोग की मात्रा: उर्वरकों को समान रूप से और सही गहराई पर मिलाना चाहिए। जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि वे पौधों की जड़ों तक पहुंचे। उर्वरकों के इस्तेमाल के समय मात्रा का भी विशेष ध्यान रखें। आवश्यकता से कम या इससे अधिक मात्रा में उर्वरकों का प्रयोग करने से फसल की उपज पर नकारात्मक प्रभाव हो सकता है।
  • पर्यावरणीय कारक: वर्षा, तापमान और मिट्टी की नमी जैसे पर्यावरणीय कारक उर्वरकों की प्रभावशीलता को प्रभावित कर सकते हैं। उर्वरकों का प्रयोग करते समय इन कारकों को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है।
  • सुरक्षा सावधानियां: अगर ठीक से संभाला नहीं जाता है तो उर्वरक खतरनाक हो सकते हैं। किसानों को सुरक्षात्मक कपड़े पहनने और त्वचा और आंखों के संपर्क से बचने जैसी सुरक्षा सावधानियों का पालन करना चाहिए।

अधिक मात्रा में उर्वरकों के प्रयोग से होने वाले नुकसान | Effects of Excessive Use of Fertilizers

  • मृदा क्षरण: उर्वरकों के अत्यधिक उपयोग से मिट्टी का क्षरण हो सकता है, जिससे समय के साथ मिट्टी की उर्वरता और उत्पादकता कम हो सकती है।
  • जल प्रदूषण: उर्वरक भूजल और सतह के पानी में मिल सकते हैं, जिससे जल प्रदूषण हो सकता है। यह जलीय जीवन को नुकसान पहुंचा सकता है और पानी को मानव उपभोग के लिए असुरक्षित बना सकता है।
  • वायु प्रदूषण: उर्वरक हवा में हानिकारक गैसों को छोड़ कर वायु प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन में योगदान कर सकते हैं।
  • स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक: उर्वरकों के अत्यधिक उपयोग से फसलों में हानिकारक रसायनों का संचय हो सकता है। इससे ऐसी फसलों का सेवन करने वाले मनुष्यों और पशुओं का स्वास्थ्य खराब हो सकता है।
  • बढ़ती हुई लागत: उर्वरकों के अधिक उपयोग से मिट्टी की उपजाऊ क्षमता धीरे-धीरे कम होने लगती है। ऐसे में बेहतर उत्पादन प्राप्त करने के लिए और मिट्टी की उर्वरता बनाए रखने के लिए अधिक उर्वरक खरीदने की आवश्यकता होती है। इससे किसानों के लिए उत्पादन की लागत बढ़ा सकती है।
  • जैव विविधता में कमी: उर्वरकों के अति प्रयोग से जैव विविधता में कमी हो सकती है, क्योंकि यह लाभकारी सूक्ष्मजीवों और कीड़ों को नुकसान पहुंचा सकता है जो मिट्टी के स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

क्या आपने अरहर की फसल में उर्वरकों का प्रयोग करने से पहले मिट्टी की जांच कराई है? अपने जवाब एवं अनुभव हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। बेहतर फसल प्राप्त करने के लिए इस तरह की अधिक जानकारियों के लिए 'कृषि ज्ञान' चैनल को तुरंत फॉलो करें। इसके साथ ही इस पोस्ट को लाइक और अन्य किसानों के साथ शेयर करना न भूलें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently Asked Questions (FAQs)

Q: अरहर में कौन सा खाद डालें?

A: अरहर की अधिक उपज प्राप्त करने के लिए गोबर की खाद के साथ यूरिया, सिंगल सुपर फॉस्फेट और म्यूरेट ऑफ पोटाश का प्रयोग करें। ज़िंक एवं सल्फर की कमी वाले क्षेत्रों में जिंक सलफेट का प्रयोग करें।

Q: अरहर की फसल में पानी कब देना चाहिए?

A: अरहर की फसल को नियमित अंतराल पर पानी दिया जाना चाहिए। भारत में, फसल आमतौर पर मानसून के मौसम में उगाई जाती है, और वर्षा पानी का प्राथमिक स्रोत है। लेकिन अच्छी उपज के लिए जब मिट्टी की ऊपरी सतह 5-10 सेंटीमीटर की गहराई तक सूख जाती है तब फसल में

सिंचाई करें। सिंचाई की आवृत्ति और मात्रा मिट्टी के प्रकार, मौसम की स्थिति और फसल के विकास के चरण पर निर्भर करती है।

Q: अरहर की अधिक उपज कैसे प्राप्त करें?

A: अरहर की अधिक उपज प्राप्त करने के लिए उच्च उपज वाली किस्मों का चयन, उचित भूमि की तैयारी, समय पर बुवाई और उचित पोषक तत्व प्रबंधन जैसी कई बातों को ध्यान में रखना जरूरी है। इसके अलावा रोग एवं कीटों पर नियंत्रण कर के और खेत को खरपतवारों से मुक्त रख के भी हम इसकी अच्छी उपज प्राप्त कर सकते हैं। अरहर की उपज तापमान, आर्द्रता जैसे प्राकृतिक कारकों पर भी निर्भर करता है।

57 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ