पोस्ट विवरण
सुने
पशु पालन
पशुपालन ज्ञान
पशु ज्ञान
9 Jan
Follow

गर्भवती भैंस की इस तरह करें देखभाल

गर्भवती भैंस की इस तरह करें देखभाल

भैंस की गर्भावस्था 10 माह 10 दिन तक की होती है। इस दौरान मादा पशुओं को अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। इस दौरान हमारी जरा सी लापरवाही भी पशुओं के लिए घातक साबित हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान मादा पशुओं के बेहतर स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए रखें इन बातों का ध्यान।

गर्भवती भैंस की इस तरह करें देखभाल

  • गर्भकाल के आखिरी 3 महीने में गाभिन भैंस का वजन 20 से 30 किलोग्राम तक बढ़ जाता है। इसलिए इस समय उन्हें अतिरिक्त पोषक तत्वों की जरूरत होती है।
  • गर्भावस्था में मादा भैंस को दौड़ने या अधिक चलने से बचाएं।
  • इस दौरान गर्भवती भैंस को फिसलन वाले स्थान पर न ले जाएं।
  • मादा भैंस को चरने के लिए ज्यादा दूर तक न ले जाएं।
  • गर्भवती भैंस के रहने की अलग व्यवस्था करें। उन्हें शांत, सूखा एवं हवादार स्थान पर रखें।
  • गर्भावस्था के 9वें या 10वें महीने से गाभिन भैंस का दूध निकालना बंद करें।
  • गाभिन भैंस को प्रति दिन 75-80 लीटर स्वच्छ व ताजा पानी पिलाएं।
  • प्रसव के बाद मादा भैंस एवं नवजात पशु को स्वच्छ एवं नरम कपड़े से साफ करें।
  • प्रसव के बाद पशु को गुनगुना पानी पिलाएं।
  • प्रसव के तुरंत बाद मादा पशु को 200 से 250 मिलीलीटर ‘देहात क्लीन जेर’ दें।

आप किस तरह गाभिन भैंस की देखभाल करते हैं? अपने विचार हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। पशुओं के स्वास्थ्य सम्बंधित अधिक जानकारियों के लिए 'पशु ज्ञान' चैनल को तुरंत फॉलो करें। इसके साथ ही इस पोस्ट को लाइक और शेयर करना न भूलें।

43 Likes
1 Comment
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ