पोस्ट विवरण
सुने
खरपतवार
कृषि
बागवानी
खरपतवार जुगाड़
11 June
Follow

जानिए खरपतवार नियंत्रण के वैज्ञानिक तरीके (Know scientific ways of weed control)


खरपतवार नियंत्रण कृषि में एक महत्वपूर्ण कार्य है, और इसके लिए वैज्ञानिक और तकनीकी तरीकों का उपयोग आवश्यक है। खरपतवार नियंत्रण के वैज्ञानिक तरीकों में यांत्रिक, सांस्कृतिक, जैविक, रासायनिक और एकीकृत खरपतवार प्रबंधन शामिल हैं। यांत्रिक नियंत्रण में शारीरिक रूप से खरपतवारों को हटाना शामिल है, सांस्कृतिक नियंत्रण में पर्यावरण को संशोधित करना शामिल है, जैविक नियंत्रण प्राकृतिक दुश्मनों का उपयोग करता है, रासायनिक नियंत्रण जड़ी-बूटियों का उपयोग करता है, और एकीकृत खरपतवार प्रबंधन कई तरीकों को जोड़ता है। विधि का चुनाव विशिष्ट स्थिति और खरपतवार के प्रकार पर निर्भर करता है।

कैसे करें वैज्ञानिक विधि से खरपतवार नियंत्रण? (How to control weeds scientifically?)

तकनीकी विधियों का महत्व: वैज्ञानिक दृष्टिकोण से खरपतवार नियंत्रण में नई तकनीकों और उपकरणों का उपयोग प्रभावी, स्थायी और पर्यावरण के अनुकूल होता है। यह विधियाँ फसलों की वृद्धि और उत्पादन में वृद्धि करती हैं।

रसायनों की संगत: खरपतवारनाशी रसायनों का सही मिश्रण महत्वपूर्ण है। यह खरपतवारों को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करता है और फसल पर नकारात्मक प्रभाव को कम करता है। गलत रसायनों के मिश्रण से फसल को हानि और पर्यावरणीय समस्याएं हो सकती हैं।

साफ पानी का उपयोग: खरपतवार नाशक के छिड़काव के लिए साफ पानी का उपयोग आवश्यक है। अशुद्ध पानी खरपतवारनाशकों की प्रभावशीलता को कम कर सकता है और फसल पर अवांछित प्रभाव डाल सकता है।

वर्षा के समय छिड़काव: छिड़काव के बाद तुरंत बारिश होने से खरपतवार नाशक धुल सकता है और उसका प्रभाव कम हो सकता है। इसलिए मौसम के पूर्वानुमान को देखते हुए ही खेतों में खरपतवार नाशक के छिड़काव की योजना बनानी चाहिए।

स्टिकर (Stickers) का उपयोग: स्टिकर जिसे साधारण भाषा में चिपकू के रूप में भी जाना जाता है, यह ऐसा पदार्थ हैं जो खरपतवार नाशक की प्रभावशीलता में सुधार करने के लिए करते हैं। यह शाकनाशियों को खरपतवार की पत्तियों से चिपकने में मदद करता है, जिससे दवा का अवशोषण बढ़ता है और अपवाह कम होता है।

  • स्टिकर शाकनाशियों को खरपतवार की पत्तियों से मजबूती से चिपकने में मदद करते हैं। इससे शाकनाशी का पौधे की कोशिकाओं तक पहुंचना आसान हो जाता है।
  • चिपकू के उपयोग से शाकनाशी का अधिक कुशल उपयोग होता है। बेहतर खरपतवार नियंत्रण के परिणामस्वरूप शाकनाशी की कम मात्रा की आवश्यकता हो सकती है।
  • स्टिकर विशेष रूप से मोमी या बालों वाली पत्तियों वाले खरपतवारों पर प्रभावी होते हैं। यह शाकनाशी को इन पत्तियों की सतह में प्रवेश करने में मदद करते हैं, जिससे बेहतर नियंत्रण होता है।
  • शाकनाशियों में स्टिकर को तब मिलाएं जब मोमी या बालों वाली पत्तियों वाले खरपतवारों पर छिड़काव किया जा रहा हो। इससे शाकनाशी का प्रभाव अधिकतम होता है।

खरपतवारनाशियों के प्रकार और उनका उपयोग: अवांछित पौधों या खरपतवारों को नियंत्रित करने और मारने के लिए उपयोग किए जाने वाले रसायन हैं। इनका उपयोग खरपतवार के प्रकार, फसल और उसके विकास अवस्था पर निर्भर करता है। खरपतवार नाशक का उपयोग मुख्य रूप से बुवाई के पहले और बुवाई के बाद इस्तेमाल करना चाहिए।

  • पोस्ट-इमर्जेंस हर्बीसाइड्स (Post-Emergence Herbicides): इनका उपयोग उन खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है जो पहले से ही मिट्टी से उग चुके होते हैं। उगे हुए खरपतवारों पर छिड़काव किया जाता है। अन्य खरपतवार नियंत्रण विधियों जैसे खेती या हाथ से निराई के साथ संयोजन में उपयोगी। बारहमासी खरपतवारों को नियंत्रित करने में विशेष रूप से प्रभावी। स्थापित खरपतवारों का प्रभावी नियंत्रण।
  • प्री-इमर्जेंस हर्बीसाइड्स (Pre-Emergence Herbicides): इनका उपयोग खरपतवार के बीजों को अंकुरित होने और बढ़ने से रोकने के लिए किया जाता है। रोपण से पहले या खरपतवार के बीज के अंकुरण से पहले मिट्टी पर छिड़काव किया जाता है। वार्षिक खरपतवारों को नियंत्रित करने में प्रभावी। अन्य खरपतवार नियंत्रण विधियों जैसे फसल रोटेशन या कवर क्रॉपिंग के संयोजन में उपयोगी। खरपतवार के शुरुआती नियंत्रण में सहायक।

छिड़काव का समय: खरपतवार नाशकों का सही समय पर छिड़काव करना आवश्यक है ताकि उनका अधिकतम प्रभाव हो सके।

पानी की मात्रा: खरपतवार नाशक का इस्तेमाल करते समय अलग-अलग फसलों के लिए पानी की मात्रा भी विभिन्न होती है। फील्ड फसलों के लिए 400 से 600 लीटर प्रति पानी प्रति हेक्टेयर लगता है। सब्जियों के लिए 600 से 800 लीटर प्रति हेक्टेयर और फलों के बाग के लिए 800 से 1000 लीटर पानी की आवश्यकता प्रति हेक्टेयर होती है।

खरपतवारों से फसलों को होने वाले नुकसान (Damage caused to crops by weeds):

  • पोषण की कमी: खरपतवार मिट्टी से आवश्यक पोषक तत्वों को ग्रहण करते हैं, जिससे फसलों को पोषण की कमी हो जाती है।
  • पानी की कमी: खरपतवार फसल के लिए पानी की उपलब्धता को कम कर देते हैं, जिससे फसल की वृद्धि प्रभावित होती है।
  • प्रकाश की कमी: खरपतवार पौधों को ढककर सूर्य की रोशनी से वंचित करते हैं, जिससे पौधों की वृद्धि धीमी हो जाती है।
  • रोग और कीट: खरपतवार रोगों और कीटों के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करते हैं, जिससे फसलों में रोग और कीट लगते हैं।
  • उपज में कमी: खरपतवारों के कारण फसल की उपज में 20-50% तक की कमी हो सकती है।
  • फलों की गुणवत्ता में कमी: खरपतवारों के कारण फलों का आकार छोटा हो सकता है और उनकी गुणवत्ता भी कम हो जाती है।
  • लागत में वृद्धि: खरपतवारों को नियंत्रित करने के लिए किसानों की लागत बढ़ जाती है।

खरपतवार नियंत्रण के आसान तरीके (Easy ways to control weeds):

  • फसल चक्र (Crop Rotation): विभिन्न फसलों को बदल-बदल कर उगाने से खरपतवारों का जीवन चक्र बाधित होता है।
  • जुताई (Tillage): हैरो और खेती से मिट्टी में गहराई पर स्थित खरपतवारों के बीज नष्ट होते हैं।
  • फसलों को कवर करें (Cover Crops): कवर क्रॉप लगाकर खरपतवारों की वृद्धि को कम किया जा सकता है और भूमि की नमी बनी रहती है।
  • जैविक नियंत्रण (Biological Control): कीड़े, कवक और बैक्टीरिया जैसे प्राकृतिक शत्रुओं का उपयोग करके खरपतवारों को नियंत्रित किया जाता है।
  • हाथों से खरपतवार निकालना: छोटे खेतों और बागों में हाथों से खरपतवार निकालना प्रभावी होता है।
  • मशीन से खरपतवार निकालना: रोटरी वीडर, मोल्ड बोर्ड प्लाऊ, हारो आदि मशीनों से खरपतवार निकालने से समय और श्रम की बचत होती है।
  • सस्य क्रियाएं (Agronomic Practices): तेजी से बढ़ने वाली और कम पोषक तत्वों की आवश्यकता वाली फसलें चुनें।
  • भू-परिष्करण क्रियाएँ: गहरी और बार-बार जुताई से बचें, क्योंकि इससे खरपतवारों के बीज अंकुरित हो सकते हैं।

आप फसलों में खरपतवार नियंत्रण के लिए कौन-सा वैज्ञानिक तरीका अपनाते हैं? अपना जवाब एवं अनुभव हमें कमेंट करके बताएं। इसी तरह की अन्य रोचक एवं महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए 'खरपतवार जुगाड़' चैनल को अभी फॉलो करें। अगर पोस्ट पसंद आयी तो इसे लाइक करके अपने किसान दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | Frequently Asked Questions (FAQs)

Q: खरपतवार नियंत्रण की कितनी विधियां हैं?

A: खरपतवार नियंत्रण के पांच मुख्य तरीके हैं: यांत्रिक, सांस्कृतिक, जैविक, रासायनिक, और एकीकृत प्रबंधन। यांत्रिक नियंत्रण में शारीरिक रूप से खरपतवारों को हटाना शामिल है, सांस्कृतिक विधि में पर्यावरण को संशोधित करना है, जैविक में प्राकृतिक दुश्मनों का उपयोग होता है, रासायनिक में शाकनाशी का उपयोग होता है, और एकीकृत प्रबंधन में विभिन्न तकनीकों का संयोजन होता है।

Q: खरपतवार नियंत्रण क्यों आवश्यक है?

A: खरपतवार नियंत्रण कई कारणों से आवश्यक है। खरपतवार पोषक तत्वों, पानी और धूप के लिए फसलों के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं, जिससे फसल की पैदावार कम हो सकती है। खरपतवार कीटों और बीमारियों को भी परेशान कर सकते हैं जो फसलों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसके अलावा, कुछ खरपतवार पशुओं के लिए जहरीले होते हैं और अगर इसका सेवन किया जाए तो स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। प्रभावी खरपतवार नियंत्रण फसल की गुणवत्ता और उपज में सुधार करने, कीट और रोग के प्रकोप के जोखिम को कम करने और पशुओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है।

Q: जैविक खेती में खरपतवार का नियंत्रण कैसे किया जाता है?

A: जैविक खेती में खरपतवार नियंत्रण सांस्कृतिक, यांत्रिक और जैविक तरीकों से किया जाता है। खरपतवार के विकास को दबाने के लिए फसल रोटेशन, इंटरक्रॉपिंग और मल्चिंग जैसी सांस्कृतिक प्रथाओं का उपयोग किया जाता है। खरपतवारों को शारीरिक रूप से हटाने के लिए हाथ से निराई और कुदाल जैसी यांत्रिक विधियों का उपयोग किया जाता है। फसल प्रतियोगिता, एलीलोपैथी और जैव नियंत्रण एजेंटों जैसे जैविक तरीकों का उपयोग खरपतवार के विकास को दबाने के लिए किया जाता है। खरपतवार नियंत्रण के लिए जैविक खेती में सिंथेटिक शाकनाशी का उपयोग नहीं किया जाता है।

43 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ