पोस्ट विवरण
सुने
लौकी
सब्जियां
कृषि ज्ञान
28 Nov
Follow

लौकी में मृदुरोमिल आसिता रोग का प्रबंधन

लौकी में मृदुरोमिल आसिता रोग का प्रबंधन

मृदुरोमिल आसिता रोग के कारण लौकी की पत्तियों की ऊपरी सतह पर पीले रंग के धब्बे बनते हैं। इन धब्बों के ठीक नीचे पत्तियों पर पानी से भरे दाग या धूल रंग के फफूंद के जाल दिखाई देते हैं। रोग बढ़ने पर पत्तियां सूखने लगती हैं और बेल का विकास रुक जाता है। इस रोग पर नियंत्रण के लिए प्रति एकड़ खेत में 200 मिलीलीटर एज़ोक्सिस्ट्रोबिन 18.2% +डिफेनोकोनाजोल 11.4% एस.सी (देहात सिनपैक्ट) का प्रयोग करें। प्रति एकड़ खेत में 600-800 ग्राम प्रोपिनेब 70% डब्ल्यू.पी. के प्रयोग से भी इस रोग पर नियंत्रण किया जा सकता है। यह दवा बाजार में देहात जिनैक्टो एवं बायर एंट्राकोल के नाम से उपलब्ध है।

यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को लाइक और शेयर करना न भूलें। इस तरह की अधिक जानकारियों के लिए कृषि ज्ञान चैनल को अभी फॉलो करें।

51 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ