पोस्ट विवरण
सुने
कृषि
कृषि तकनीक
देसी जुगाड़
8 May
Follow

आवारा पशुओं को खेत से दूर रखने के लिए देसी जुगाड़ | Methods to Keep Stray Animals Away from the Fields

आवारा पशुओं के कारण खेतों को नुकसान भारत में किसानों के सामने एक आम समस्या है। बकरी और सूअर जैसे आवारा पशु फसलों को काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं। गाय, भैंस जैसे पालतू जानवर भी कभी-कभी हरे चारे की तलाश में खेत में आ जाते हैं। इसके अलावा कुछ क्षेत्रों में नीलगाय जैसे जंगली जानवरों के खेत में आने का भी खतरा बना रहता है। आवारा एवं जंगली पशुओं का खेत में आना किसानों की मुश्किलें बढ़ाता जा रहा है। ऐसे में किसान कुछ देसी जुगाड़ को अपनाकर आवारा पशुओं को खेत से दूर रख सकते हैं। इसकी विस्तृत जानकारी के लिए आप इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।

आवारा पशुओं से खेत में होने वाले नुकसान | Damage caused by stray animals in the fields

  • आवारा पशु खेत में लगी फसलों को खा कर फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं।
  • कई बार पशु खेत में आ कर खड़ी फसलों को कुचल देते हैं। जिससे फसल खराब हो जाती है।
  • नीलगाय जैसे जंगली पशु खेत में बनाई गई मचान एवं अन्य बुनियादी ढांचों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • यदि खेत में ड्रिप सिंचाई, स्प्रिंकलर जैसे सिंचाई प्रणालियों का इस्तेमाल किया गया है तो पशुओं के खेत में आने के कारण ये भी खराब हो सकती हैं।
  • फसल नष्ट होने के कारण किसानों को आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ता है।

आवारा पशुओं को खेत से दूर रखने के लिए देसी जुगाड़ | Ways to keep stray animals away from the fields

  • कंटीली झाड़ियों का इस्तेमाल: खेत के चारों तरफ कैक्टस या बबूल जैसी कंटीली झाड़ियों को लगाना आवारा पशुओं को फसलों से दूर रखने का एक कारगर उपाय है। कांटे एक प्राकृतिक बाधा के रूप में कार्य करते हैं और पशुओं को खेत में प्रवेश करने से रोकते हैं।
  • तारबंदी करना: खेत के चारो तरफ तारबंदी कर के आवारा पशुओं को खेत से दूर रखा जा सकता है। नीलगाय एवं अन्य आवारा पशुओं से फसल को बचाने के लिए खेत के चारो तरफ आप कटीले तार से घेरा बना सकते हैं। पशु जब भी खेत में आने का प्रयास करते हैं तब उनके शरीर में कटीले तार चुभते हैं और वे पीछे हट जाते हैं।
  • बांस या पतली जाली का अवरोध: खेत के चारो तरफ बांस या पतली जाली लगा कर घेराव कर सकते हैं। इससे पशुओं को आने से रोकने के साथ विभिन्न मौसम में गर्म एवं ठंड हवाओं से फसलों की सुरक्षा भी की जा सकती है।
  • पुतले लगा कर: आपने कई बार खेतों में पुतले लगे देखे होंगे। किसानों के द्वारा खेतों में पुतला लगाने के पीछे का मुख्य कारण आवारा पशुओं और पक्षियों को फसलों से दूर रखना है। खेत में पुतला लगा देख कर पशुओं को लगता है कि खेत में को व्यक्ति फसलों की सुरक्षा के लिए खड़ा है। जिससे फसलों के समीप जाने पर पशुओं को खतरे का एहसास होता है और पशु एवं पक्षी फसलों से दूर ही रहते हैं। खेत में पुतला लगाना किसानों के लिए बहुत किफायती भी साबित होता है। पुतलों को घर मर पड़े सामान जैसे लकड़ी, मटका, कपड़ा, आदि से तैयार किया जा सकता है, तो हुआ न कम खर्च में फसलों का बचाव।
  • औषधीय फसलों को लगाना: आवारा पशुओं से फसलों को नष्ट होने से बचाने के लिए किसान खेत की मेड़ों के आसपास या फसलों के चारो तरफ औषधीय फसलों को लगा सकते हैं। औषधीय फसलों का स्वाद या इसकी तेज गंध के कारण पशु इसे खाना पसंद नहीं करते हैं। इस तरह किसान बहुत कम खर्च में, बिना किसी नुकसान के पशुओं को खेत से दूर रख सकते हैं। फसलों के चारो तरफ औषधीय फसलों को लगाने से किसान अतिरिक्त मुनाफा भी प्राप्त कर सकते हैं।
  • सोलर झटका मशीन का प्रयोग: यह एक ऐसी मशीन है जिसके प्रयोग से पहले खेत के चारो तरफ कटीले तार लगा कर घेरा बनाया जाता है। इसके बाद तार में सोलर झटका मशीन लगाया जाता है। इस मशीन में में बैटरी लगी होती है। यह बैटरी सौर्य ऊर्जा से चार्ज होती है। जिससे किसानों को बिजली के लिए अतिरिक्त लागत की परेशानी नहीं होती है। आवारा या जंगली पशु जैसे ही खेत में आने की कोशिश करते हैं, उनके शरीर पर तार लगती है और उन्हें तेज झटका लगता है। जिससे जानवर पीछे हटने लगते हैं। इस मशीन की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि झटका लगने से जानवर घायल नहीं होते या उनकी मृत्यु नहीं होती है। पशुओं को केवल तेज झटका लगता है जिससे वे खेत में आने का दोबारा प्रयास नहीं करते हैं। सोलर झटका मशीन के इस्तेमाल से पशुओं के साथ फसलों को भी नुकसान से बचाया जा सकता है।

आवारा पशुओं को खेत से दूर भगाने के लिए क्या आपने कभी देसी जुगाड़ों को अपनाया है? अपने जवाब एवं अनुभव हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। इस तरह की अधिक रोचक एवं महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए 'देसी जुगाड़' चैनल को तुरंत फॉलो करें। इसके साथ ही इस पोस्ट को लाइक और शेयर करना न भूलें। जिससे अन्य किसान मित्र भी इस जानकारी का लाभ उठाते हुए बहुत कम खर्च में आवारा पशुओं से अपने फसलों की रक्षा कर सकें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently Asked Question (FAQs)

Q: जंगली जानवरों से खेत की रक्षा कैसे करें?

A: जंगली जानवरों से खेतों की रक्षा करना भारत में किसानों के सामने एक सामान्य एवं बड़ी चुनौती है। जंगली जानवरों से खेत की रक्षा करने के लिए बाड़ लगा सकते हैं। इसके अलावा मोशन-एक्टिवेटेड लाइट और साउंड डिवाइस के प्रयोग से भी जंगली जानवरों को खेत से दूर रखा जा सकता है। कुछ क्षेत्रों में कुत्ते, गधे जैसे रक्षक पशुओं को भी खेत के आस-पास रखते हैं। जिससे जंगली पशुओं को दूर भगाने में आसानी होती है।

60 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ