पोस्ट विवरण
सुने
कृषि तकनीक
कृषि टेक
7 Mar
Follow

पुनर्योजी कृषि तकनीक: क्यों महत्वपूर्ण है | Regenerative Agriculture: Why Is It Important?

पुनर्योजी कृषि तकनीक: क्यों महत्वपूर्ण है | Regenerative Agriculture: Why Is It Important?

पुनर्योजी कृषि तकनीक: क्यों महत्वपूर्ण है | Regenerative Agriculture: Why Is It Important?

एक सफल कृषि उत्पाद के लिए कई प्राकृतिक संसाधनों की आवश्यकता होती है। जैसा कि हम जानते हैं, पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधन सीमित हैं और बढ़ती हुई मांगों के संबंध में उनका शीघ्र शोषण हो रहा है, हमें उन्हें पुनः स्थापित और संरक्षित करने के लिए कुछ तरीके अपनाने होंगे। ऐसे में पुनर्निर्माणीय कृषि प्रथा (पुनर्योजी कृषि तकनीक) एक विकल्प साबित हो सकता है। पुनर्योजी कृषि प्रथा उच्च उत्पाद उत्पन्न करने में मदद करने के साथ प्राकृतिक संसाधनों को निर्मित करने में भी सहायक हो सकती है। पुनर्योजी कृषि में ऐसी कृषि प्रथाएं शामिल हैं जो किसानों को प्राकृतिक संसाधनों का सही ढंग से उपयोग और प्रबंधन करने में मदद कर सकती हैं। इसलिए प्राकृतिक संसाधनों को पुनर्स्थापित करना अत्यंत आवश्यक है।

पुनर्योजी कृषि क्या है? | What is Regenerative Agriculture?

पुनर्योजी कृषि में ऐसी कृषि प्रथाएं और सिद्धांत शामिल हैं जो वर्षों तक भूमि स्वास्थ्य में सुधार करने के साथ-साथ पानी, उर्वरक, और अन्य इनपुट्स के उचित उपयोग को संभालने में मदद कर सकती है। इस कृषि के तरीके उपयोग हो रहे संसाधनों को अनावश्यक बनाने की बजाय उन्हें सुधारने में मदद करने की दिशा में काम करते हैं।

पुनर्योजी कृषि क्यों महत्वपूर्ण है? | Why is Regenerative Agriculture important?

वर्तमान जनसंख्या वृद्धि और बढ़ते खाद्य मांग के समर्थन के संबंध में, कृषि उद्योग को अपनी उत्पादन क्षमता को भारी मात्रा में बढ़ाने की आवश्यकता है। कृषि प्रक्रिया में उच्च गुणवत्ता के उत्पादों को उत्पन्न करने के लिए विभिन्न प्राकृतिक संसाधनों और रासायनिक पदार्थों का उपयोग करने की आवश्यकता है। इस परिस्थिति में, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि प्राकृतिक संसाधन सीमित हैं और यदि उचित पुनर्स्थापन रणनीतियों का पालन नहीं किया जा रहा है, तो ये निकट भविष्य में कम हो सकते हैं। पुनर्योजी कृषि प्राकृतिक संसाधनों को पुनः स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

पुनर्योजी कृषि कैसे सहायक हो सकती है? | How can Regenerative Agriculture help?

प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करने के समय पुनर्योजी कृषि प्रथा का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है। नीचे कुछ महत्वपूर्ण तरीके हैं, जिससे कोई भी व्यक्ति पुनर्योजी कृषि को अपना सकता है।

  • संरक्षित जुताई: सामान्यतौर पर किसान फसलों को लगाने से पहले खेत की जुताई करते हैं। लेकिन आपको यह जान कर हैरानी हो सकती है कि खेत की जुताई के भी कुछ नकारात्मक पहलू हैं। जब किसान फसलों की बुवाई करने से पहले भूमि की हल या किसी अन्य उपकरण से जुताई करता है, तबी भूमि का स्वास्थ्य प्रभावित हो जाता है। भारी मात्रा में खेत की जुताई से मिट्टी में घर्षण होता है जिससे मिट्टी में संग्रहित कार्बन निकलने लगता है। इससे मिट्टी के सूक्ष्मजीवों का संतुलन खराब हो जाता है। संरक्षित जुताई पद्धति का पालन करने से, बेहतर जैविक घटकों वाली मिट्टी को नुकसान नहीं होता है। यह स्पष्ट रूप से लंबी अवधि के लिए मिट्टी के स्वास्थ्य में काफी सुधार करने में मदद करता है।
  • विविधता: मिट्टी के सूक्ष्मजीवों के आवश्यक पोषण के लिए कार्बोहाइड्रेट्स की आवश्यकता होती है। विभिन्न पौधों द्वारा विभिन्न प्रकार के कार्बोहाइड्रेट्स निर्मित किए जाते हैं जो सूक्ष्मजीवों के लिए काफी आवश्यक है। पौधों के द्वारा बनाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट्स मिट्टी के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है। विभिन्न प्रकार की फसलों और पौधों के रोपण को बढ़ाने से किसानों को अच्छी गुणवत्ता वाली फसल की पैदावार बढ़ाने में मदद मिलेगी।
  • फसल चक्र और कवर क्रॉप्स: खुली भूमि प्रतिकूल रूप से खराब हो सकती है क्योंकि मिट्टी के पोषक तत्व कटाव के माध्यम से बह सकते हैं या नष्ट हो सकते हैं। इसलिए मिट्टी की गुणवत्ता और स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए कवर क्रॉप्स की आवश्यकता होती है जो लंबे समय तक किसानों के लिए फायदेमंद हो सकती है। दूसरी ओर, किसान को एक ही प्रकार की फसल की खेती या उसकी उपज तक सीमित नहीं रहना चाहिए। उन्हें सावधानीपूर्वक कवर क्रॉप्स और विभिन्न प्रकार की फसलों की खेती करनी चाहिए जिससे मिट्टी की पोषण और गुणवत्ता को बनाए रखने में मदद मिलती है। विभिन्न प्रकार की फसलें मिट्टी में मौजूद पोषक तत्वों में सुधार कर सकती हैं। वहीं एक ही प्रकार की फसल अन्य पोषणों की उपलब्धता को रोक कर केवल किसी विशेष पोषक तत्व को विकसित कर सकती है।
  • अव्यवस्था की कमी: खेती के दौरान भूमि पर विभिन्न कृषि रसायनों का अनुचित अनुप्रयोग भूमि की स्वास्थ्य और गुणवत्ता को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। मिट्टी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए विभिन्न कृषि रसायनों का कम उपयग या उचित मात्रा में उपयोग करना चाहिए। इससे मिट्टी में जीवाणुओं और पोषक तत्वों को लंबे समय तक बनाए रखने में मदद मिलती है।

पुनर्योजी कृषि और जलवायु परिवर्तन | Regenerative Agriculture and Climatic Changes

वर्तमान परिदृश्य में, दुनिया भर में जलवायु परिस्थितियों में भारी बदलाव आया है। जलवायु में लगातार हो रहे परिवर्तन मिट्टी के स्वास्थ्य और गुणवत्ता को काफी प्रभावित कर सकते हैं। जैसे बाढ़ की स्थिति में, कटाव से सभी कार्बनिक पदार्थ और आवश्यक पोषक तत्व बह जाते हैं, जिससे मिट्टी की उर्वरता एक निश्चित अवधि के लिए कम या समाप्त हो जाती है। इसलिए, भारी वर्षा और सूखे की स्थिति को झेलने के लिए मिट्टी की जल-धारण क्षमता में सुधार के लिए कुछ कदम उठाए जाने चाहिए। इसलिए, किसानों को पुनर्योजी कृषि पद्धतियां अपनानी चाहिए क्योंकि यह मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ बनाने में मदद करती है और कार्बनिक पदार्थ का स्तर जल धारण क्षमता के सुधार में सहायक है। इससे मिट्टी को अपनी गुणवत्ता बनाए रखने या उसकी भरपाई करने के लिए प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने में मदद मिलेगी।

क्या आप पुनर्योजी कृषि तकनीक से पहले से अवगत थे? अपने जवाब एवं अनुभव हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। इस तरह की अधिक जानकारियों के लिए 'कृषि टेक' चैनल को तुरंत फॉलो करें। इसके साथ ही इस पोस्ट को लाइक और शेयर करना न भूलें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | Frequently Asked Question (FAQs)

Q: खेती में पुनर्योजी का क्या अर्थ है?

A: पुनर्योजी खेती एक प्रकार की खेती है जो मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार, जैव विविधता बढ़ाने और सिंथेटिक उत्पादों के उपयोग को कम करने पर केंद्रित है। इसमें फसल चक्र, कवर क्रॉपिंग, कम जुताई और पशुधन के एकीकरण जैसी प्रथाएं शामिल हैं। पुनर्योजी खेती का लक्ष्य एक स्थायी और लचीला कृषि प्रणाली बनाना है जो पर्यावरण और किसान दोनों को लाभ पहुंचाता है।

Q: क्या पुनर्योजी कृषि जलवायु परिवर्तन का समाधान है?

A: पुनर्योजी कृषि जलवायु परिवर्तन के समाधानों में से एक है, लेकिन यह एकमात्र समाधान नहीं है। इसमें मिट्टी में कार्बन को अलग करने, ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के प्रति कृषि प्रणालियों की लचीलापन बढ़ाने की क्षमता है। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अकेले पुनर्योजी कृषि जलवायु परिवर्तन के जटिल मुद्दे को हल नहीं कर सकती है। इसे अन्य प्रयासों जैसे जीवाश्म ईंधन उत्सर्जन को कम करने, वनों की रक्षा करने और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों में संक्रमण करने की आवश्यकता है।

57 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ