पोस्ट विवरण
सुने
कृषि
कीट
किसान डॉक्टर
14 May
Follow

फसलों में नेमाटोड के लक्षण एवं प्रबंधन (Symptoms and management of nematodes in crops)


नेमाटोड कीट सूक्ष्म, कृमि जैसे जीव हैं जो फसलों को काफी नुकसान पहुंचाते हैं। वे पौधों की जड़ों पर भोजन करते हैं, जिससे पौधें का विकास रुक जाता है। जिसके कारण फसलों की पैदावार में कमी आती है। नेमाटोड मिट्टी में पाए जाते हैं और यह कई वर्षों तक जीवित रहते हैं, जिससे उन्हें नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है। भारत में, नेमाटोड कीट सब्जियों, फलों, अनाज और दालों सहित सभी फसलों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। कुछ फसलें जो विशेष रूप से नेमाटोड क्षति के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं, उनमें टमाटर, आलू, भिंडी, खीरे, तरबूज, केले, खट्टे फल, अंगूर, चावल, गेहूं और छोले शामिल हैं।

नेमाटोड कीट के लक्षण एवं बचाव (Nematode insect symptoms and prevention)

फसलों पर नेमाटोड कीट के लक्षण :

  • नेमाटोड कीट सूक्ष्म, कृमि जैसे जीव हैं जो फसलों को काफी नुकसान पहुंचाते हैं। यह दूषित मिट्टी, पानी या पौधों के माध्यम से फैलते हैं।
  • नेमाटोड कीट मिट्टी में पाए जाते हैं और कई वर्षों तक जीवित रह सकते हैं, जिससे इन्हें नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है।
  • गेहूं, टमाटर, मिर्च, बैंगन, भिंडी, परवल और धान को विशेष रूप से नुकसान पहुंचाते हैं। अनार, नींबू, संतरा, अमरूद, अंजीर, किन्नू और अंगूर जैसी अन्य फलों वाली फसलों में भी नेमाटोड पाया जाता है।
  • नेमाटोड के कारण जड़ गांठ रोग, पुट्टी रोग, नीबू मुरझा रोग, जड़ सड़न रोग, और जड़ फफोला रोग उत्पन्न होते हैं।
  • नेमाटोड पौधे की जड़ों को खाते हैं, जिससे पौधों की पत्तियाँ पीली पड़ जाती हैं।
  • नेमाटोड पौधों की जड़ों से रस चूसते हैं, जिससे पौधे को मिट्टी से उर्वरक, पानी या पोषक तत्वों की पूरी मात्रा नहीं मिल पाती है और पौधे की वृद्धि रुक ​​जाती है।
  • नेमाटोड के कारण जड़ों में गांठ बन जाती है, जिससे पौधे की वृद्धि रुक ​​जाती है और पौधा नष्ट हो जाता है।
  • जब पौधों में नेमाटोड का प्रकोप होता है तो पौधों की वृद्धि रुक ​​जाती है और पौधे मुरझा कर सूखने लगते हैं।
  • नेमाटोड कीट के कारण प्रति वर्ष 60 से 80% तक फसल उत्पादन में नुकसान होता है।

फसलों में निमेटोड कीट का जैविक नियंत्रण :

  • कुछ पौधों के अर्क, जैसे नीम का तेल और लहसुन, में नेमाटिसाइडल गुण पाए जाते हैं जिसका उपयोग फसलों से नेमाटोड कीटों को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है।
  • फसलों के चारों ओर आवरण फसलें, जैसे कि गेंदा और सरसों, को मिट्टी में निमेटोड आबादी को कम करने के लिए लगाया जाता है।
  • फसल चक्र अपनाना चाहिए यह कीटों के जीवन चक्र को बाधित कर देता है और उनके खाद्य स्रोत को कम करके निमेटोड आबादी को कम करने में मदद कर सकता है।
  • नेमाटोड कीटों को नियंत्रित करने के लिए कुछ बैक्टीरिया, कवक और वायरस का भी उपयोग किया जाता है।
  • फसलों में सूत्रकृमियों को नियंत्रित करने के लिए गर्मी के मौसम में खेत की गहरी जुताई करनी चाहिए। जुताई के एक सप्ताह बाद जमीन में फिर से जुताई कर 10 क्विंटल नीम की खली प्रति एकड़ उपयोग करने के बाद ही फसल बोनी चाहिए।
  • नीम की खाद का प्रयोग उपज में 40% तक की वृद्धि करता है, फूलों के विकास में वृद्धि करता है, फलों की संख्या में वृद्धि करता है, और फलों को अधिक सुखद और चमकदार बनाता है, और साथ में फलों का आकार बड़ा होता है।
  • 1 से 2 साल के पौधे में 1 किलो और 3 से 5 साल के पौधे में 2 से 3 किलो, पौधे की जड़ों के पास एक ट्रे बनाकर मिट्टी में अच्छी तरह मिला दें और पानी दें। इसके अलावा घुलनशील नीम का तेल ड्रिप द्वारा भी डाला जा सकता है।

फसलों में निमेटोड कीट का रासायनिक नियंत्रण :

  • बायर की वेलुम प्राइम (फ्लुओपाइरम 34.48% एस सी) दवा का प्रयोग 400 से 425 मिली प्रति 400 लीटर पानी में मिला कर प्रति एकड़ ड्रेंचिंग या ड्रिप के माध्यम से उपयोग करें। इस दवा का प्रयोग चिपके एजेंटों के साथ करें। यह दवा रूट नॉट नेमाटोड का तेज, प्रभावी और लंबी अवधि तक  नियंत्रण करती है।

क्या आप भी फसलों में निमेटोड कीट से परेशान हैं? अपना जवाब हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। इस पोस्ट में दी गई जानकारी पसंद आई है तो इस पोस्ट को लाइक और शेयर करना न भूलें। फसलों को कीट एवं रोगों से बचाने की अधिक जानकारियों के लिए 'किसान डॉक्टर' चैनल को तुरंत फॉलो करें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently Asked Question (FAQs)

Q: निमेटोड क्या है?

A: नेमाटोड एक प्रकार का राउंडवॉर्म है जो मिट्टी, पानी और पौधों सहित वातावरण में पाया जाता है। वे छोटे और पतले कीड़े हैं जो बेलनाकार शरीर के होते हैं। नेमाटोड अविश्वसनीय रूप से विविध हैं और पृथ्वी पर लगभग हर पारिस्थितिकी तंत्र में पाए जा सकते हैं। कुछ नेमाटोड फायदेमंद होते हैं, जैसे कि वे जो मिट्टी में कार्बनिक पदार्थों को विघटित करने में मदद करते हैं, जबकि अन्य हानिकारक होते हैं और फसलों, जानवरों और मनुष्यों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। नेमाटोड परजीवी हो सकते हैं, पौधों की जड़ों या जानवरों के ऊतकों पर भोजन कर सकते हैं, या मुक्त रहने वाले, मिट्टी या पानी में रह सकते हैं और बैक्टीरिया और अन्य सूक्ष्मजीवों पर भोजन कर सकते हैं।

Q: नेमाटोड पौधों को कैसे नुकसान पहुंचाते हैं?

A: नेमाटोड सूक्ष्म, कृमि जैसे जीव हैं जो पौधों को उनकी जड़ों, तनों और पत्तियों को खा कर नुकसान पहुंचा सकते हैं। वे विभिन्न प्रकार के लक्षण पैदा कर सकते हैं, जिनमें अवरुद्ध विकास, पत्तियों का पीला पड़ना, मुरझाना और कम उपज शामिल हैं।

Q: नेमाटोड को कैसे रोकें?

A: पौधों को नेमाटोड कीट से होने वाली हानि से रोकने के लिए सांस्कृतिक प्रथायें जैसे- फसल चक्र, मृदा  प्रबंधन, प्रतिरोधी किस्मों का उपयोग, जैविक नियंत्रण में नीम तेल और रासायनिक नियंत्रण में नेमाटिसाइड्स का उपयोग करके नियंत्रित किया जा सकता है।

54 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ