पोस्ट विवरण
सुने
प्रौद्योगिक खेती
कृषि
Krishi Tech
12 May
Follow

वर्टिकल फार्मिंग क्या है ? (What is vertical farming?)


ऊर्ध्वाधर खेती कृत्रिम प्रकाश और नियंत्रित पर्यावरण कृषि प्रौद्योगिकी का उपयोग करके लंबवत खड़ी परतों में फसल उगाने की एक विधि है। यह तकनीक एक छोटी सी जगह में फसलों के साल भर उत्पादन की अनुमति देती है, जिससे यह शहरी क्षेत्रों के लिए एक लोकप्रिय विकल्प बन जाता है जहां भूमि कम होती है। भारत में, ऊर्ध्वाधर खेती खाद्य उत्पादन बढ़ाने और पारंपरिक कृषि के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के तरीके के रूप में लोकप्रिय हो रही है।

कैसे करें वर्टिकल फार्मिंग / ऊर्ध्वाधर खेती? (How to do vertical farming?)

वर्टिकल फार्मिंग में कृत्रिम प्रकाश व्यवस्था, नियंत्रित तापमान और आर्द्रता का उपयोग करके लंबवत खड़ी परतों में फसलों को उगाकर काम करते हैं। इसमें फसलों को एक दूसरे के ऊपर खड़ी ट्रे या कंटेनरों में उगाया जाता है, जिससे हर परत को आवश्यकतानुसार प्रकाश, पानी और पोषक तत्व मिल सके। हर फसल के लिए बढ़ती परिस्थितियों को अनुकूलित करने के लिए सेंसर, स्वचालन और कृत्रिम बुद्धिमत्ता जैसी उन्नत तकनीक का उपयोग करके पर्यावरण को नियंत्रित करते हैं।

वर्टिकल फार्मिंग को प्रभावित करने वाले चार प्रमुख कारक हैं।

  • लेआउट (Layout) : वर्टिकल फार्मिंग में, फसलों को ऊँचाई के लिए स्ट्रक्चर पर उगाया जाता है, जिसमें प्रत्येक स्तर पर विभिन्न स्तरों पर प्लेटफार्म या ट्रे होते हैं जहाँ फसलों को उगाया जाता है। यह प्लेटफार्म प्लास्टिक ट्रे, नेट बैग, या अन्य आधुनिक संरचनाओं की तरह हो सकते हैं।
  • प्रकाश (Light) : वर्टिकल फार्मिंग में, प्रकाश को प्रबंधित करने के लिए एक महत्वपूर्ण उपाय है। कृषक सीधे सूर्य प्रकाश, एलईडी लैंप, या एलईसी लाइट का उपयोग कर सकते हैं। यह सुनिश्चित करता है कि पौधों को पर्याप्त प्रकाश मिलता है जो उनकी वृद्धि और उत्पादकता को बढ़ावा देता है।
  • स्थिरता (consistency) : वर्टिकल फार्मिंग में, संसाधनों की यथासंभव उपयोगीकरण स्थिरता का एक महत्वपूर्ण पहलू है। सिंचाई के लिए स्वचालित सिस्टम, जल प्रबंधन के लिए उचित व्यवस्था, और पौधों के लिए उचित पोषण प्रदान किया जाता है ताकि उनका उत्पादकता बढ़ सके।
  • विकास का माध्यम (medium of development) : वर्टिकल फार्मिंग के लिए विभिन्न विकास के माध्यम हो सकते हैं, जैसे कि हाइड्रोपोनिक्स, एरोपोनिक्स, और एक्वापोनिक्स। इन तकनीकों में, पौधों के लिए पानी, खाद्य, और ऑक्सीजन की आवश्यकताएँ संतुलित रूप से प्रदान की जाती हैं, जिससे उनका विकास संवेदनशीलता के साथ होता है।

वर्टिकल फार्मिंग के लाभ : ऊर्ध्वाधर खेती / वर्टिकल फार्मिंग के कई लाभ हैं।

  • वर्टिकल फार्मिंग मौसम की स्थिति की परवाह किए बिना साल भर फसल उत्पादन की अनुमति देती है, जो भारत में भोजन की बढ़ती मांग को पूरा करने में मदद कर सकती है।
  • वर्टिकल फार्मिंग के लिए पारंपरिक खेती के तरीकों की तुलना में कम भूमि की आवश्यकता होती है, जो इसे शहरी क्षेत्रों के लिए आदर्श बनाती है जहां स्थान सीमित है।
  • वर्टिकल फार्मिंग पारंपरिक खेती के तरीकों की तुलना में कम पानी का उपयोग करती है क्योंकि पानी को पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है और सिस्टम में पुन: उपयोग किया जा सकता है।
  • वर्टिकल फार्मिंग कीटनाशकों के उपयोग को कम कर सकती है क्योंकि नियंत्रित वातावरण कीटों और बीमारियों को फसलों को प्रभावित करने से रोक सकता है।
  • वर्टिकल फार्मिंग पारंपरिक खेती के तरीकों की तुलना में प्रति वर्ग फुट उच्च फसल पैदावार का उत्पादन कर सकती है क्योंकि नियंत्रित वातावरण पौधे की वृद्धि को अनुकूलित कर सकता है।
  • वर्टिकल फार्मिंग परिवहन लागत को कम कर सकती है क्योंकि फसलों को शहरी क्षेत्रों के करीब उगाया जा सकता है, जिससे लंबी दूरी के परिवहन की आवश्यकता कम हो जाती है।

क्या आप वर्टिकल फार्मिंग करना चाहते हैं? अपने जवाब हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। कृषि क्षेत्र की आधुनिक तकनीकों की अधिक जानकारी के लिए ‘कृषि टेक ’ चैनल को तुरंत फॉलो करें। इसके साथ ही इस पोस्ट को लाइक और शेयर करना न भूलें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently Asked Question (FAQs)

Q: वर्टिकल फार्मिंग क्या है?

A: ऊर्ध्वाधर खेती कृत्रिम प्रकाश व्यवस्था, नियंत्रित तापमान और आर्द्रता का उपयोग करके लंबवत खड़ी परतों में फसल उगाने की एक विधि है। यह एक प्रकार की इनडोर खेती है जिसे नियंत्रित वातावरण में किया जा सकता है, जैसे गोदाम या ग्रीनहाउस। फसलों को एक दूसरे के ऊपर खड़ी ट्रे या कंटेनरों में उगाया जाता है, प्रत्येक परत को आवश्यक मात्रा में प्रकाश, पानी और पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। खेती की यह विधि साल भर फसल उत्पादन, अंतरिक्ष के कुशल उपयोग, पानी के उपयोग को कम करने और फसल की पैदावार में वृद्धि की अनुमति देती है। कृषि के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करते हुए शहरी क्षेत्रों में भोजन की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए ऊर्ध्वाधर खेती एक आशाजनक समाधान है।

Q: वर्टिकल फार्मिंग में किन फसलों की खेती की जा सकती है?

A: ऊर्ध्वाधर खेती में पत्तेदार साग जैसे: लेट्यूस, पालक जैसे अन्य फसलों की खेती करते हैं। जड़ी बूटी फसलों में तुलसी, पुदीना, अजमोद, और अन्य जड़ी बूटियों को उगाया जाता है।  इसके अलावा स्ट्रॉबेरी, टमाटर और मशरूम को साल भर उगाया जा सकता है।

Q: वर्टिकल फार्मिंग में कितना खर्चा आता है?

A: ऊर्ध्वाधर खेती की लागत कई कारकों के आधार पर भिन्न हो सकती है जैसे कि खेत का आकार, उगाई जाने वाली फसलों का प्रकार, उपयोग की जाने वाली तकनीक और स्थान। सामान्य तौर पर, उपकरण, प्रकाश व्यवस्था और जलवायु नियंत्रण प्रणालियों की लागत के कारण पारंपरिक खेती के तरीकों की तुलना में ऊर्ध्वाधर खेती स्थापित करना अधिक महंगा होता है। अगर किसान के पास खुद की ज़मीन है तो उन्हें हर 5 साल के लिए प्रति एकड़ जमीन पर करीब 30.5 लाख रुपये खर्च करने होंगे।

51 Likes
Like
Comment
Share
फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ

फसल चिकित्सक से मुफ़्त सलाह पाएँ